हमारे WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे थार एक्सप्रेस ग्रुप में जुड़ें ताजा समाचार आपको मिलेंगे लिंक पर क्लिक करें। Thar portal 1

बीकानेर।  लोकतंत्र के कई ऐसे अनूठे सिपाही हैं जो हर चुनाव में मतदान करने पहुँचते ही हैं। ऐसे ही एक अनूठे सिपाही  जिन्होने आजादी से अब तक हर बार वोटिंग की-बीकानेर नगर निगम चुनाव में वोट देने वाले अंबालाल आचार्य ऐसे मतदाता हैं जिन्होनें देश में आजादी के बाद अब तक जितने भी चुनाव हुए हैं उन सभी चुनावों में वोट दिया है। वार्ड संख्या 60 के एनडी माडर्न स्कूल बूथ में वोट देने आए 95 साल के मतदाता अंबालाल आचार्य को 1951 में दिया गया पहला वोट अब तक याद हैं, उस चुनाव को याद कर कहते हैं, तब लोकसभा-विधानसभा दोनों चुनाव साथ हुए थे, डाॅ.करणीसिंह लोकसभा के निर्दलीय प्रत्याशी थे, उनका जो चुनाव निशान था वही विधानसभा का चुनाव लड़ रहे निर्दलीय प्रत्याशी मोतीचंद का भी था, देश में पहली बार वोटिंग हुई थी, किसी को प्रक्रिया की ज्यादा जानकारी नहीं थी, लोकसभा में डाॅ.करणीसिंह जीते वहीं विधानसभा में निर्दलीय मोतीचंद ने आरआरपी के दीनानाथ को 549 वोटों से हराया।
रियासतों का शासन, अंग्रेजों  का दबदबा, आजादी का आंदोलन और आजादी मिलने से लेकर अब तक की लोकतांत्रिक यात्रा के साथी आचार्य के वोटिंग के प्रति उत्साह का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक बार हाॅस्पिटल में भर्ती होने के बावजूद वोट देने बूथ पर आए, एकबारगी नागपुर से बीकानेर बगैर रिजर्वेशन इसलिए आए ताकि वोटिंग का दिन न निकल जाएं।