गंगाशहर में निःशुल्क त्रिदिवसीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा शिविर का शुभांरभ

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!

बीकानेर , 16 फ़रवरी । राजस्थान प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र के संरक्षक रहे स्व. वैद्य महावीर प्रसाद जी शर्मा की पंचम पुण्यतिथि के अवसर पर निःशुल्क त्रिदिवसीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा शिविर का शुभांरभ हुआ।

L.C.Baid Childrens Hospiatl

प्रबुद्ध समाजसेवी एवं सेवानिवृत इंजीनियर तथा दयानन्द पब्लिक स्कूल के निर्देशक भरत ठोलिया तथा वर्द्धमान कोटा खुला विश्व विद्यालय के क्षेत्रीय निर्देशक बलवान सिंह सैनी चिकित्सा अधिकारी डॉ. वत्सला गुप्ता, सुप्रसिद्ध योगाचार्य श्रीरत्न तांबोली, समाजसेवी एवं आजीवन सदस्य पूनमचंद जी खत्री ने वैद्य जी के चित्र पर माल्यापर्ण व दीप प्रज्ज्वलन कर किया।

schoks manufacring

संस्था मंत्री बनवारी लाल शर्मा ने वैद्य जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए इस अवसर पर कहा कि “नर सेवा – नारायण सेवा” सहस्त्र रूग्ण मानवों की सेवा करने के संकल्प करने के साथ अपना जीवन समर्पित करने वाले स्व. वैद्य महावीर प्रसाद जी शर्मा हजारों लोगों के प्रेरणास्त्रोत रहे है।

प्राकृतिक चिकित्सा के माध्यम से विभिन्न रोगों का सफल ईलाज कर राजस्थान प्राकृतिक चिकित्सा को प्रदेश ही नहीं अपितु पूरे भारत वर्ष में पहचान दिलाने का कार्य वैद्य जी ने किया है। ऐसे महापुरूष की पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए प्रबुद्ध समाजसेवी इंजीनियर एवं उद्योगपति भरत ठोलिया ने कही और जन-जन से जुड़ने का आवहान किया।

स्व. वैद्य महावीर प्रसाद शर्मा को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए केन्द्र की चिकित्सा अधिकारी डॉ. वत्सला गुप्ता ने कहा कि वैद्य जी द्वारा स्थापित किया हुए वट वृक्ष प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र मानव सेवा के माध्यम से नई ऊँचाईयों पर नए आयामों के साथ उनके सपनों को साकार करने के लिए संस्था सदैव तत्पर है और उन्हें सच्ची श्रद्धांजली देने के लिए आप सभी का सहयोग अपेक्षित है।

इस अवसर पर वर्द्धमान कोटा खुला विश्व विद्यालय के निर्देशक बलवान सिंह सैनी ने कहा कि श्री वैद्य जी प्राकृतिक चिकित्सा के प्रायः माने जाते थे, जिन्होंने इस क्षेत्र में अपना पूरा जीवन समर्पित किया और इस क्षेत्र में उनके सपनों को साकार करने के लिए वर्तमान में केन्द्र का परिदृश्य नई ऊँचाईयों के साथ दिखाई दे रहा है। यहीं परिवर्तन उन्हें सच्ची श्रद्धांजली का प्रतीक है।

शिविर में सुप्रसिद्ध योगाचार्य श्री श्रीरत्न तांबोली ने शरीर को स्वस्थ रखने के गुण सिखाते हुए प्राणायाम, सूक्ष्म व्यायाम व ध्यान तथा आसनों की श्रृंखला को शिविरार्थियों के जीवन में उतारने व अपनाने के लिए आवहान किया व प्रदर्शन कर योग भगाएं रोग का संदेश दिया।

गंगाशहर में निःशुल्क त्रिदिवसीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा शिविर का शुभांरभ

पुण्यतिथि के अवसर पर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए अतिथियों ने वैद्य जी को स्मरण कर केन्द्र के वनऔषधि उद्यान में आम्र वृक्ष लगाकर संस्था के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

निःशुल्क शिविर में शिविरार्थियों में भारी उत्साह देखने को नजर आया। जिसमें महाराजा गंगासिंह विश्व विद्यालय के योग संकाय के हितेन्द्र मारू व प्रणव विरमानी के साथ विद्यार्थियों में रजिस्ट्रेशन की होड रही तथा 95 शिविरार्थियों ने योगाभ्यास के साथ प्राकृतिक चिकित्सा लेकर शरीर को स्वस्थ रखने के कारगार उपाय व परामर्श लिया।

इस अवसर पर केन्द्र के कर्मचारियों ने अपना पूर्ण योगदान देते हुए वैद्य जी को पुष्पाजंली अर्पित की। जिनमें कविता सुथार, महावीर उपाध्याय, मयंक बोथरा, कुनाल तंवर, सुनीता प्रजापत, कृष्णा कच्छावा, जयशंकर खत्री आदि शामिल रहें।

संस्था मंत्री बनवारी लाल शर्मा ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव एवं वैद्य जी के जन्म शताब्दी वर्ष पर स्व. वैद्य महावीर प्रसाद शर्मा की पंचम पुण्यतिथि पर संस्था अध्यक्ष वेद प्रकाश चर्तुवेदी, उपाध्यक्ष श्रीभगवान अग्रवाल के सान्निध्य में त्रिदिवसीय निःशुल्क योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा शिविर का समापन समारोह 18 फरवरी 2024 को केन्द्र के योग भवन में होगा। जिसमें मुख्य अतिथि महाराजा गंगासिंह विश्व विद्यालय के कुलपति मनोज दीक्षित तथा बीकानेर पश्चिम के विधायक जेठानन्द व्यास विशेष रूप से उपस्थित रहेगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *