सिलीगुड़ी के पास कंचनजंघा एक्सप्रेसस दुर्घटना हादसे में 15 यात्री मारे गए और 60 अन्य घायल, लोको पायलट और गार्ड भी नहीं बचे

stba

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!

  • कचनजंगा एक्सप्रेस हादसे में 5 की मौत, लोको पायलट और गार्ड भी नहीं बचे; रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव रवाना
  • पश्चिम बंगाल में बड़ा रेल हादसा, कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन को मालगाड़ी ने मारी टक्कर, तीन बोगियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त, देखें तस्वीरें

जलपाईगुड़ी , 17 जून। ( सुधीर लूणावत ) पश्चिम बंगाल में एक बड़ा रेल हादसा हो गया। कंचनजंगा एक्सप्रेस और एक मालगाड़ी में टक्कर हो गई है। न्यू जलपाईगुड़ी से सियालदह जा रही कंचनजंगा एक्सप्रेस सिलीगुड़ी पार करने के बाद रंगपनीर स्टेशन के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। जिसके बाद ट्रेन के कई डिब्बे बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं. यह घटना न्यू जलपाईगुड़ी के रंगापानी इलाके में हुई है. हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई जबकि 21 लोग घायल हैं. वहीं अब तक 25 लोगों को रेस्क्यू किया गया है.पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में सोमवार को सुबह एक मालगाड़ी की टक्कर लगने के कारण सियालदह जाने वाली कंचनजंगा एक्सप्रेस के पीछे के तीन डिब्बे पटरी से उतर गए। इससे कम से कम 15 यात्री मारे गए और 60 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। हालांकि राज्य और केंद्र की कई एजेंसियां स्थानीय लोगों के साथ मिलकर उन यात्रियों को बचाने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही हैं जो अभी भी अंदर फंसे हो सकते हैं। एक वरिष्ठ रेलवे अधिकारी ने बताया कि मृतकों में मालगाड़ी का पायलट और सह-पायलट भी शामिल है। पुलिस ने बताया कि दुर्घटना में घायल हुए लोगों को उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल ले जाया जा रहा है।

L.C.Baid Childrens Hospiatl

कंचनजंगा एक्सप्रेस अगरतला से चलकर सियालदह जा रही थी और इसी दौरान न्यू जलपाईगुड़ी में पीछे से एक मालगाड़ी उससे टकरा गई. घायलों को बोगियों से निकालने का काम शुरू कर दिया गया है.

mona industries bikaner

इस हादसे के बाद इमरजेंसी मेडिकल टीम को घटनास्थल पर भेजा गया है और भारी बारिश के बीच बचाव कार्य जारी है. रेल दुर्घटना के बाद सियालदह रेलवे स्टेशन पर आपातकालीन सहायता डेस्क बनाया गया है.

वहीं इस रेल हादसे को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स के माध्यम से कहा है कि दार्जिलिंग जिले में कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन को एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी है, इस रेल हादसे की खबर सुनकर हैरान हूं. उन्होंने कहा कि जिले के एसपी-डीएम और रेस्क्यू टीम को तुरंत मौके पर पहुंचने का निर्देश दिया है.

रंगापानी स्टेशन के पास हादसा
अधिकारी ने बताया कि उत्तर बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन से लगभग 30 किलोमीटर दूर रंगापानी स्टेशन के पास ही मालगाड़ी के इंजन द्वारा पीछे से टक्कर मारे जाने के कारण कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन के तीन डब्बे पटरी से उतर गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर पोस्ट में कहा कि पश्चिम बंगाल में रेल दुर्घटना दुखद है। जिन लोगों ने इस हादसे में अपने प्रियजनों को खो दिया है, उनके प्रति मेरी संवेदना है। उन्होंने आगे कहा कि मैं प्रार्थना करता हूं कि हादसे में घायल हुए लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। मैंने अधिकारियों से बात की और स्थिति का जायजा लिया। प्रभावितों का सहायता के लिए बचाव अभियान जारी है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव भी दुर्घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।

हादसे के बाद ट्रेन की कई बोगियां पलट गईं जबकि दो बोगियां एक दूसरे के ऊपर चढ़ गईं.

 

हादसे के बाद ट्रेन की कई बोगियां पलट गईं जबकि दो बोगियां एक दूसरे के ऊपर चढ़ गईं.

सियालदाह स्टेशन पर आपातकालीन सहायता डेस्क खोली गई है. कंचनजंगा ट्रेन टक्कर के संबंध में सियालदह में हेल्प डेस्क नंबर 033-23508794, 033-23833326 पर लोग कोई भी जानकारी ले सकते हैं.

इस हादसे पर पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) ने बयान जारी करते हुए कहा कि न्यू जलपाईगुड़ी के रंगापानी में ट्रेन दुर्घटना हुई है. बयान के मुताबिक, ‘एक मालगाड़ी सियालदह जाने वाली डीएन कंचनजंगा एक्सप्रेस से पीछे से टकरा गई.’ हादसे को लेकर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक्स पर लिखा, ‘एनएफआर जोन में दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना हुई है. बचाव कार्य युद्ध स्तर पर जारी है. रेलवे, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ मिलकर काम कर रहे हैं. घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है. वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं।

राहत और बचाव का काम शुरू कर दिया गया है। वहीं, हादसा होने के बाद रेल परिचालन भी प्रभावित हुआ है। कई ट्रेनें अलग-अलग स्टेशनों पर खड़ी कर दी गई है।

घटना के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर दुख जताया है। उन्होंने लिखा, “अभी-अभी दार्जिलिंग जिले के फांसीदेवा इलाके में एक दुखद रेल दुर्घटना के बारे में जानकर स्तब्ध हूँ। हालांकि विवरण की प्रतीक्षा है, कंचनजंगा एक्सप्रेस कथित तौर पर एक मालगाड़ी से टकरा गई है।”

उन्होंने आगे लिखा, “बचाव, पुनर्प्राप्ति, चिकित्सा सहायता के लिए डीएम, एसपी, डॉक्टरों, एम्बुलेंस और आपदा टीमों को घटनास्थल पर भेजा गया है। युद्धस्तर पर कार्रवाई शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं।”इस ट्रैन में
अगरतला, सिलचर, करीमगंज, गुवाहाटी ,और सिलीगुड़ी के मारवाड़ी लोग यात्रा करना पसंद करते रहते है .

रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए
रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं, जिन पर लोग स्थिति के बारे में जानकारी ले सकते हैं। ये नंबर हैं 033-23508794 और 033-23833326 (सियालदह) और 03612731621, 03612731622 और 03612731623 गुवाहाटी। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और प्रधानमंत्री मोदी ने हादसे पर दुख जताया है।

राहत राशि का ऐलान
दुर्घटना के बाद राहत कार्यों का जायजा लेने के लिए सोमवार को पश्चिम बंगाल रवाना हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पीड़ितों को अनुग्रह राशि देने की घोषणा की। सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में उन्होंने लिखा कि मरने वालों के परिजनों को 10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 2.5 लाख रुपये और मामूली रूप से घायलों को 50,000 रुपये की सहायता दी जाएगी। भीषण टक्कर के कारण कंचनजंघा एक्सप्रेस के पीछे के दो डिब्बे तुरंत ही पटरी से उतर गए जबकि एक अन्य डिब्बा मालगाड़ी के इंजन के ऊपर चढ़ गया था।

 

खराब मौसम की वजह से बचाव अभियान में दिक्कत
अधिकारी ने कहा कि खराब मौसम की वजह से बचाव कार्य में परेशानी उत्पन्न हो रही है। इस दुर्घटना ने एक साल पहले ओडिशा के बहनागा बाजार के निकट हुई कोरोमंडल एक्सप्रेस दुर्घटना की यादों को ताजा कर दिया है। इस हादसे में लगभग 300 लोग मारे गए थे तथा 1,000 से अधिक लोग घायल हुए थे। रेलवे अधिकारी ने बताया कि 13174 कंचनजंघा एक्सप्रेस अगरतला से सियालदह जा रही थी, तभी सुबह करीब नौ बजे यह दुर्घटना हुई।

ममता ने क्या कहा?
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर किए गए पोस्ट में कहा कि अभी-अभी दार्जिलिंग जिले के फांसीदेवा इलाके में एक दुखद रेल दुर्घटना होने के बारे में जानकर स्तब्ध हूं। विस्तृत जानकारी का इंतजार है, बताया जाता है कि कंचनजंगा एक्सप्रेस को एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी है। उन्होंने आगे लिखा कि जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, डॉक्टर, एंबुलेंस और आपदा टीमों को बचाव, राहत और चिकित्सा सहायता के लिए घटनास्थल पर भेजा गया है। युद्धस्तर पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

ममता बनर्जी राहत कार्यों का निरीक्षण करने जाएंगी
एक अधिकारी ने बताया कि राज्यपाल सी वी आनंद बोस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राहत कार्यों का निरीक्षण करने और घायलों से मिलने के लिए बाद में रेल दुर्घटना स्थल का दौरा करेंगे। अधिकारी ने बताया कि राज्यपाल और मुख्यमंत्री राहत कार्यों का जायजा लेने के लिए न्यू जलपाईगुड़ी में दुर्घटनास्थल का दौरा करेंगे। इस बीच रेलवे अधिकारियों ने पुष्टि की है कि कंचनजंगा एक्सप्रेस ने बाकी यात्रियों को लेकर अप्रभावित डिब्बों के साथ कोलकाता के लिए अपनी यात्रा शुरू कर दी है।

shree jain P.G.CollegeCHHAJER GRAPHISथार एक्सप्रेस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *