एमजीएसयू : नववर्ष पर प्रकाशन समिति द्वारा तैयार यूनिवर्सिटी कलेंडर का कुलपति सचिवालय में हुआ विमोचन

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!

खोई हुई विरासत थीम के साथ तैयार यूनिवर्सिटी कलेंडर में निहित है इतिहास, पर्यावरण, जल और जीव सरंक्षण के भाव : डॉ॰ मेघना शर्मा

L.C.Baid Childrens Hospiatl

बीकानेर , 1 जनवरी। एमजीएसयू बीकानेर द्वारा भारत सरकार की विकसित भारत 2047 परिकल्पना और विश्वविद्यालय कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित की विरासत संवर्धन विचारधारा के क्रम में कलेंडर का लोकार्पण हुआ।
राष्ट्र की विरासत को सुदृढ़ करते एक ऐतिहासिक कदम उठाते हुए राज्य के बीकानेर संभाग की अनदेखी किंतु अति महत्वपूर्ण विरासत और संस्कृति के कुछ अंशों को समेटे वर्ष 2024 का कैलेंडर जारी किया गया है। इसकी परिकल्पना और प्रारूप प्रकाशन समिति की संयोजक डॉ॰ मेघना शर्मा द्वारा तैयार किये गये हैं ।

schoks manufacring

विमोचन समारोह अध्यक्ष कुलपति दीक्षित ने प्रत्येक वर्ष अलग अलग थीम लेकर यूनिवर्सिटी कलेंडर बनाने के क्रम को जारी रखने की घोषणा की।
विमोचन समारोह को संबोधित करते हुये डॉ॰ मेघना ने बताया कि इस कलेंडर का थीम ‘खोई हुई विरासत’ है जिसमें संभाग के इतिहास के अलावा प्रमुख धर्मों व पंथ आधारित उन दर्शनीय स्थलों को शामिल किया गया है जिनके बारे में लोग कम परिचित हैं ।

इसमें जल संरक्षण व पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता को समेटे हुए, सर्वसमुदाय की भावना के साथ साथ जीव संरक्षण को भी महत्व दिया गया है। कैलेंडर की प्रमुख विशेषता यह है कि इसमें संभाग के चारों ज़िलों यथा गंगानगर, चूरू, बीकानेर और हनुमानगढ़ से तीन-तीन दर्शनीय स्थलों को दर्शाया गया है जिनका हिन्दी बारहखडी के क्रमानुसार उपयोग करते हुए सचित्र विवरण देते हुए कलेंडर में प्रस्तुत किया गया है।

विश्व की प्राचीनतम संस्कृति कालीबंगा के अवशेषों से लेकर हिंदू, सिख, नाथ पंथ, जैन धर्म व बौद्ध धर्म के स्थलों को प्रदर्शित किया गया है।
नव वर्ष के कलेंडर का विमोचन सचिवालय में कुलपति आचार्य दीक्षित, प्रो॰ अनिल कुमार छंगाणी, प्रो॰ राजाराम चोयल, कुलसचिव अरुण प्रकाश शर्मा और प्रकाशन समिति की संयोजक डॉ॰ मेघना शर्मा द्वारा सोमवार तड़के किया गया। विश्वविद्यालय के शिक्षक और अधिकारी विमोचन समारोह में शामिल रहे।

GYPSUM POWDER

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *