सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड: इन मांगों पर बनी सहमति, धरना समाप्त

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!

श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के मामले में करीब 29 घंटे बाद बुधवार देर शाम को शव मानसरोवर स्थित मेट्रो मास हॉस्पिटल में रखे गोगामेड़ी के शव का पोस्टमार्टम करवाने पर सहमति बनी। गुरुवार को शव की अंत्येष्टि होगी।

L.C.Baid Childrens Hospiatl

जयपुर। श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी सहित दो लोगों की घर में घुसकर गोली मार हत्या करने वाले शूटरों का दूसरे दिन बुधवार को भी सुराग नहीं लग सका। वारदात के करीब 29 घंटे बाद बुधवार देर शाम को शव मानसरोवर स्थित मेट्रो मास हॉस्पिटल में रखे गोगामेड़ी के शव का पोस्टमार्टम करवाने पर सहमति बनी। गुरुवार को शव की अंत्येष्टि होगी। वहीं श्याम नगर थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया। पुलिस अधिकारियों ने 72 घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया है। इसके बाद सुखदेव सिंह गोगामेड़ी पत्नी ने धरना समाप्त घोषणा की।

schoks manufacring

इससे पहले पुलिस कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसफ ने समाज के प्रतिनिधि मंडल के साथ कई दौर की वार्ता के बाद सर्व सामाजिक संगठन के मांगपत्र पर हस्ताक्षर किए। वहीं जयपुर कमिश्नरेट टीम ने शूटरों की पहचान होने के बाद से बुधवार रात तक उनके छिपने के कई संदिग्ध ठिकानों पर दबिश दी। बुधवार रात तक शूटर पकड़ में नहीं आ सके।

महेन्द्रगढ़ पहुंची एसआईटी
पुलिस महानिदेशक उमेश मिश्रा ने बुधवार को राजधानी जयपुर सहित प्रदेश में कई जगह विरोध प्रदर्शन को देखते हुए शूटरों को पकडऩे के लिए एसआईटी का गठन किया। गौर करने वाली बात है कि आनंदपाल एनकाउंटर करने वाली टीम में शामिल पुलिस अधिकारी व पुलिसकमियों को एडीजी दिनेश एमएन के नेतृत्व वाली एसआईटी में शामिल किया गया है। एसआईटी की एक टीम हरियाणा के महेन्द्रगढ़ निवासी शूटर नितिन फौजी की जानकारी जुटाने हरियाणा पहुंची है।

नागौर के जसूरिया निवासी शूटर रोहित सिंह राठौड़ के जयपुर व प्रदेश में छिपने वाले ठिकानों पर कमिश्नरेट पुलिस छापे मार रही है। दिल्ली क्राइम ब्रांच कई प्रकरणों में लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गों की तलाश कर रही है। लॉरेंस गैंग के गुर्गे रोहित गोदारा की भी दिल्ली पुलिस तलाश कर रही है। गोगामेड़ी की गोली मार हत्या करने के बाद सोशल मीडिया पर गैंगस्टर रोहित गोदारा ने हमला करवाने की जिम्मेदारी ली थी। इसके बाद दिल्ली क्राइम ब्रांच गोगामेड़ी के मामले को भी गंभीरता से लेकर जांच कर रही है।

इन मांगों पर बनी सहमति
– हत्या के दोषी हत्यारे (शूटर) को स्थानीय पुलिस द्वारा बिना विलम्ब गिरफ्तार किया जाएगा। आपराधिक साजिश में शामिल गैंगस्टर लॉरेन्स विश्नोई, रोहित गोदारा एवं अन्य जो भी शामिल हो उनके खिलाफ भी कार्रवाई के लिए अनुसंधान पत्रावली में उल्लेख किया जाएगा।
– प्रकरण का अनुसंधान एनआईए एजेंसी द्वारा करने की अनुशंसा की जाएगी।
– सुखदेव सिंह गोगामेड़ी को लगातार मिल रही धमकियों के बाद भी उनको पुलिस सुरक्षा उपलब्ध नहीं कराने के संबंध में जिम्मेदार अधिकारियों की भूमिका सामने लाने के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश से न्यायिक जांच कराके जांच रिपोर्ट के आधार पर दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई किया जाएगा।

– बाद अनुसंधान प्रकरण का ट्रायल फास्ट ट्रेक कोर्ट (विशेष न्यायालय एनआईए प्रकरण) से करवाया जाएगा।
– घटना घटित होने के पूर्व व पश्चात लापरवाही बरतने के संबंध में विभागीय जांच की जाएगी। इस विभागीय जांच के दौरान थानाधिकारी और बीट में पद स्थापित कार्मिको को पुलिस लाइन जयपुर में स्थानान्तरण किया जाएगा।
– सुखदेव सिंह के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए व सरकारी नौकरी दिलवाए जाने के लिए राज्य सरकार को अनुशंषा की जाएगी।
– घटना में घायल अजीत सिंह के परिजनों को भी आर्थिक सहायता दिलाने के लिए राज्य सरकार को अनुशंसा की जाएगी।

– सुखदेव सिंह के परिवार के सदस्यों को जयपुर में पुलिस आयुक्तलाय जयपुर द्वारा और हनुमानगढ़ जिले में जिला पुलिस हनुमानगढ़ द्वारा हाई सिक्योरिटी प्रदान की जाएगी।
– सुखदेव सिंह के जयपुर निवासरत परिवार के सदस्यों को शस्त्र अनुज्ञा पत्र जयपुर आयुक्तालय द्वारा आवेदन पत्र प्राप्त होने से 10 दिन में स्वीकृत किया जाएगा। जिला हनुमानगढ़ के निवासरत परिवारजन को शस्त्र अनुज्ञा पत्र के विचाराधीन आवेदनों पर दस दिन में अनुज्ञा पत्र स्वीकृति के लिए जिला मजिस्ट्रेट हनुमानगढ़ को निर्देश देने के लिए प्रमुख शासन सचिव गृह राजस्थान सरकार को सूचित किया जाएगा।
– इस प्रकरण के सबी गवाहों को जयपुर आयुक्तालय या संबंधित जिले से सुरक्षा उपलब्ध की जाएगी।
– चर्चा के दौरान यह तक्ष्य सामने आया है कि जिस आपराधिक गैंग द्वारा सुखदेव सिंह की हत्या की गई है। इसी गैंग के निशाने पर राजपूत समाज के कई प्रतिष्ठित व्यक्ति है जिनके खतरे का सात दिन में आंकलन कर उन्हें समुचित सुरक्षा उपलब्ध करवाया जाना सुनिश्चित किया जाएगा। राजपूत समाज के जिन प्रतिष्ठित व्यक्तियों की सुरक्षा को गंभीर खता है उनकी सूची अलग से प्रेषित कर दी गई है।

GYPSUM POWDER

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *