पीबीएम के मनोरोग विभाग द्वारा 4 से 10 अक्टूबर तक विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह का होगा आयोजन

stba

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!

पीबीएम के मनोरोग विभाग द्वारा 4 से 10 अक्टूबर तक विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह का होगा आयोजन

L.C.Baid Childrens Hospiatl

बीकानेर, 3 अक्टूबर। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मानसिक रोग एवं नशा मुक्ति विभाग, पी.बी.एम. अस्पताल बीकानेर द्वारा दिनांक 04.10.2023 से 10.10.2023 तक विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है।

mona industries bikaner

सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य एवं नियंत्रक डॉक्टर गुंजन सोनी ने बताया की आगामी सात दिवस में अलग-अलग स्थानों पर कार्यक्रमों के माध्यम से मानसिक रोग एवं इनके ईलाज के लिए आमजन में जागरूकता लाने के प्रयास किए जाएंगे, उसी को ध्यान में रखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा वर्ष 2023 के विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह की मुल विषय-वस्तु “मानसिक स्वास्थ्य एक सार्वभौमिक मानव अधिकार है” रखी गई है। मुल विषय-वस्तु के पीछे एक जुट होने का अवसर है ताकि ज्ञान में सुधार किया जा सके, जागरूकता बढ़ाई जा सके और सार्वभौमिक मानव अधिकार के रूप में सभी के मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और उसकी रक्षा करने वाले कार्यों को और आगे बढाया जा सके।

मानसिक स्वास्थ्य सभी लोगों के लिए एक बुनियादी मानव अधिकार है हर किसी को, चाहे वह कोई भी हो और जहां भी हो, मानसिक स्वास्थ्य के उच्चतम प्राप्य मानक का अधिकार है। इसमें मानसिक स्वास्थ्य जोखिमों से सुरक्षित रहने का अधिकार, उपलब्ध, सुलभ, स्वीकार्य और समुदाय में शामिल होने का अधिकार शामिल हैं।

मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति होना कभी भी किसी व्यक्ति को उसके मानवाधिकारों से वंचित करने या उसे अपने स्वास्थ्य के बारे में निर्णयों से बाहर करने का कारण नहीं होना चाहिए। फिर भी पुरी दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति वाले लोगों को व्यापक स्तर पर मानवाधिकार के उल्लंघन का सामना करना पड़ रहा है कई लोगो को सामुदायिक जीवन से बाहर कर दिया जाता है और उनके साथ भेदभाव किया जाता है, जबकि कई लोग मानसिक स्वास्थ्य देखभाल संस्थान तक पहुंच नहीं पाते है जिनकी उन्हें आवश्यकता होती है या केवल ऐसी देखभाल तक पहुंच पाते है जो उनके मानवाधिकारों का उल्लंघन करती है।

मनोरोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉक्टर श्री गोपाल गोयल ने बताया की इस सप्ताह को मनाने का उद्देश्य यह है कि मानसिक स्वास्थ्य को महत्व दिया जाए. बढ़ावा दिया जाए और संरक्षित किया जाए और तत्काल कार्यवाही की जाए ताकि हर कोई अपने मानवाधिकारों का उपयोग कर सके और उन्हें आवश्यक गुणवत्तापूर्ण मानसिक स्वास्थ्य देखभाल प्राप्त हो सके। आम जन में मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता लाने के प्रयास किये जाएगें।

उल्लेखनीय है कि विभाग के सहायक आचार्य डॉ० राकेश कुमार, सहायक आचार्य डॉ० निशान्त चौधरी, सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर ज्योति चौधरी, क्लिनिकल साइकोलोजिस्ट डॉ० अन्जु ठकराल, मानसिक रोग विभाग द्वारा सप्ताह भर आयोजित होने वाले कार्यक्रम के दौरान अपनी अहम भूमिका का निर्वहन करेंगे ।

थार एक्सप्रेस
CHHAJER GRAPHIS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *