राजस्थान में ईडी ने 12 जगहों पर की रेड, मंत्री के करीबियों पर लटकी तलवार

stba

हमारे सोशल मीडिया से जुड़े!


IAS सुबोध अग्रवाल के ऑफिस को ED अपने कब्जे में ले लिया है

L.C.Baid Childrens Hospiatl

जयपुर , 3 नवम्बर । राजस्थान में ED की छापेमारी बड़े जोर शोर से चल रही है। प्रतिदिन अलग अलग अफसरों , नेताओं , नेता पुत्रों व नजदीकियों को घेरा जा रहा है। राजस्थान के मुख्यमंत्री चनावी सभाओं में कह रहें हैं कि टिड्डी दल की तरह ED दाल राजस्थान में छाये हुए हैं।

mona industries bikaner

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने में करीब 22 दिन का समय बचा है। उम्मीदवार लगातार अपना नामांकन दाखिल करवा रहे हैं। इसी बीच जयपुर से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां परिवर्तन निदेशालय ने केंद्र सरकार के सबसे बड़े प्रोजेक्ट जल जीवन मिशन में घोटाले की सूचना के बाद जलदाय विभाग के आईएएस अफसर सुबोध अग्रवाल के दफ्तर सहित कई अन्य जगहों पर छापेमारी की है। राजस्थान में यह कार्रवाई अलग-अलग जगह चल रही है।

जल जीवन मिशन प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है। जिसका उद्देश्य हर घर तक नल और जल पहुंचाने का है। इस योजना के तहत 50% पैसा केंद्र सरकार और 50% पैसा राज्य सरकार वहन करती है।

पीएचईडी (PHED) मंत्री महेश जोशी है और इसी विभाग के कर्मचारियों और अफसरों पर ईडी ने रेड डाली है

राजस्थान में इस बार साल के अंत में चुनाव होने वाले हैं, लेकिन ईडी की रेड गहलोत सरकार की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं। सीएम के खास माने जाने वाले मंत्री महेश जोशी के जल विभाग पर आफत आ पड़ी है। महेश जोशी पीएचईडी (PHED) के मंत्री है और इसी विभाग के कर्मचारियों और अफसरों पर ईडी ने रेड डाली है। कुछ बाहरी लोग भी ईडी के राडार पर हैं जिनमें से दो प्रॉपर्टी डीलर हैं। एक तो मंत्री महेश जोशी के करीबी दोस्त भी हैं। जानकारों का कहना है केस में बड़े खुलासे हुए तो आंच मंत्री तक भी आ सकती है।

राजस्थान में प्रवर्तन निदेशालय (ED) का अब तक का सबसे बड़ा एक्शन चल रहा है. जल जीवन मिशन घोटाले पर ED ने दो दर्जन से ज्यादा ठिकानों पर छापा मारा है. जानकारी के मुताबिक, एक IAS, एक RAS, PHED अधिकारियों और ठेकेदारों के ठिकानों पर ईडी की टीम पहुंची है. जयपुर के साथ-साथ कई जिलों में ईडी ने छापेमारी की है. राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली सहित कई राज्यों के अधिकारियों की टीम जांच कर रही है. जल जीवन मिशन के घोटालेबाजों के खिलाफ यह कार्रवाई हो रही है.

सचिवालय स्थित IAS सुबोध अग्रवाल के ऑफिस में ED ने छापा मारा है. ED के अधिकारियों ने सुबोध अग्रवाल के ऑफिस को अपने कब्जे में ले लिया है. इतना ही नहीं स्टाफ का मोबाइल फोन जब्त करने की जानकारी भी मिल रही है. मंत्री महेश जोशी के स्टाफ कक्ष में भी सर्च जारी है. सचिवालय के रूम नंबर 4119 में रिकॉर्ड को जब्त किया गया है. मंत्री महेश जोशी के स्टाफ का कंप्यूटर, हार्ड डिस्क और कई दस्तावेज भी ED के अधिकारियों ने बरामद किया है.

जल जीवन मिशन से जुड़े मामले में कार्रवाई

जल जीवन मिशन घोटाले मामले में ED ने 20 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की है. PHED के चीफ इंजिनियर KD गुप्ता, दिनेश गोयल के घर पर सर्च जारी है. इंजिनियर सुधांशु दीक्षित, XEN संजय अग्रवाल के ठिकानों पर भी ईडी की टीम पहुंची है. सूत्रों की मानें तो ये इंजीनियर मंत्री महेश जोशी के करीबी माने जाते हैं. इतना ही नहीं ED को प्रॉपर्टी डीलर रामकरण शर्मा के घर से भी कई अहम दस्तावेज हाथ लगे हैं. दौसा स्थित ठेकेदार नमन खण्डेलवाल के ठिकानों पर भी छापे की जानकारी मिल रही है.

ईडी की तीन टीम जयपुर में सचिवालय पहुंची
आज सुबह परिवर्तन निदेशालय की तीन टीम राजधानी जयपुर में सचिवालय पहुंची और वहां सुबोध अग्रवाल के ऑफिस में भी सर्च करना शुरू कर दिया है। इससे पहले अगस्त महीने में प्रवर्तन निदेशालय ने राजस्थान के दो बड़े बिजनेसमैन के यहां छापेमारी की कार्रवाई की थी जिसके बाद सुबोध अग्रवाल का नाम सामने आया था। जब दोनों बिजनेसमैन के यहां छापेमारी की कार्रवाई की गई तो वहां कई करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी के कागजात भी मिले थे।

पाइप लाइन बिछाने में भी करोड़ों का खेल किया
घोटाले में ठेकेदार पदमचंद जैन सहित कई बड़े सरगना शामिल हैं। इन्होंने केंद्र सरकार के जल जीवन प्रोजेक्ट मिशन में घोटाला किया है। इन लोगों ने पैसा तो उच्च क्वालिटी की पाइप डालने का लिया लेकिन जब निरीक्षण टीम ने जांच की तो वह पाइप बेहद कमजोर क्वालिटी का निकला। इतना ही नहीं जिन इलाकों में पाइप लाइन डालनी थी वहां पुरानी पाइपलाइन को नया बताकर पैसा ले लिए गया। दूर-दराज के ग्रामीण इलाकों में पाइपलाइन डाली ही नहीं गई।

जयपुर, उदयपुर समेत अन्य जिलों में 12 जगह ईडी की रेड
ईडी ने आज जयपुर, उदयपुर समेत प्रदेश के कुछ अन्य जिलों में करीब 12 जगहों पर छापे मारे। इस छापेमारी के दौरान एक दलाल के ठिकानों पर लॉकर्स से आठ किलो सोना बरामद हुआ है। इसकी कीमत करीब पौने पांच करोड़ रुपए से भी ज्यादा है। दलाल का नाम ओपी विश्वकर्मा है।

मंत्री के करीबी के यहां भी रेड
दलाल के अलावा एक रिटायर आरएएस अफसर के लॉकर्स से एक किलो पांच सौ ग्राम गोल्ड बरामद किया गया है। इसकी कीमत करीब 80 लाख रुपए से ज्यादा है। बताया जा रहा है कि प्रॉपर्टी कारोबारी संजय बडाया के यहां भी रेड डाली गई है। संजय बडाया मंत्री जोशी के बेहद खास दोस्त हैं।

रडार पर कई और लोग
इसके अलावा अन्य कुछ संदिग्धों के यहां भी रेड कर जांच चल रही है। इस केस में ईडी ने रिटायर्ड आरएएस महेश मित्तल, प्रॉपर्टी कारोबारी संजय बडाया, प्रॉपर्टी डीलर कल्याण सिंह काव्य, एक्सईएन विशाल सक्सेना समेत कुछ को राडार पर ले रखा है। इनकी भूमिका सामने आने पर इन्हें अरेस्ट कर लिया जाएगा।

11 दिन पहले भी की थी रेड
आज से 11 दिन पहले भी ईडी ने आसपास के जिलो में रेड की थी। इस दौरान इन संदिग्धों के यहां से करीब दो करोड़ तीस लाख से ज्यादा कैश और एक किलो सोना बरामद किया था।

थार एक्सप्रेस
CHHAJER GRAPHIS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *